तुलसी की चाय पीने के फायदे | Tulsi ki chai pine ke Fayde

तुलसी, सैंकड़ों सालों से आयुर्वेदिक दवाइयों का भी अहम हिस्सा रही है। लेकिन आज हम तुलसी के पत्तों की नहीं बल्कि तुलसी की चाय पीने के कितने फायदे हैं इस बारे में आपको बताएंगे। अगर आप टी लवर हैं, चाय के शौकीन हैं तो आप दूध वाली कैफीन से भरपूर चाय पीने की जगह तुलसी वाली चाय का ऑप्शन ट्राई कर सकते हैं।

सुबह खाली पेट तुलसी का पत्ता चबाना सबसे लाभकारी होता है। इससे आपकी इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग होती है और आप बीमारियों से बचे रहते हैं। लेकिन अगर आप तुलसी का पत्ता चबाकर नहीं खा सकते तो उसकी चाय पी लें। सुबह-सुबह दूध वाली चाय की जगह तुलसी की चाय पी सकते हैं। तुलसी के पत्तों में ऐंटिऑक्सिडेंट्स होता है जो शरीर को फ्री-रैडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाकर रखता है। साथ ही तुलसी की चाय सूजन को कम करने और तनाव दूर करने में भी मदद करती है।

सांस संबंधी समस्याओं में आराम : तुलसी की चाय कफ, खांसी, जुकाम, अस्थमा या ब्रोनकाईटिस से राहत दिलाती है। इसमें इम्यूनोमॉड्यूलेटरी एंटीट्यूसिव और एक्सपेक्टोरेंट होते हैं जो कफ व बलगम से छुटकारा दिलाते हैं। इसमें खास ऑयल भी होते हैं जो जकड़न में भी आराम पहुंचाते हैं।

नियमित रूप से रोजाना अगर तुलसी की चाय का सेवन किया जाए तो इससे आपका ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है। लेकिन अगर आप डायबीटीज के मरीज हैं तो तुलसी की चाय में शहद का इस्तेमाल न करें। इसके अलावा तुलसी की चाय पीने से शरीर में कार्बोहाइड्रेट और फैट का मेटाबॉलिज्म सही रहता है जिससे खून में मौजूद शुगर आपको एनर्जी देने का काम करता है।

तुलसी में एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं जो दांतों व मुंह के कीटाणुओं से लड़ते हैं और इनकी बीमारियों से रक्षा करते हैं। तुलसी की चाय माउथ फ्रेशनर का भी काम करती है और सांस की बदबू को दूर करती है। यह मुंह को अल्सर या जख्म से भी बचाती है।

तुलसी की चाय बनाने की विधि

इसे बनाना बहुत ही आसान है, इसके लिए आपको सिर्फ एक कप पानी डालकर उसमें 2-4 तुलसी की पत्ती डालना है। अब इसे गैस पर चढ़ाकर उबाल लें। इससे तुलसी का रंग और फ्लेवर दोनों पानी में आ जाएगा। अब आपकी तुलसी की चाय तैयार है।

नोट : अगर आप तुलसी की चाय को मीठा करना चाहें तो पानी उबालते समय ही अपने स्वाद के अनुसार शकर डाल दें और गरम होने के लिए रख दें, क्योंकि इस चाय में दूध का उपयोग नहीं किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *