सौंफ खाने के कुछ फायदे | Saunf khane ke kuch Fayde

सौंफ छोटे पतले दानों वाला एक मसाला होता है। अगर सौंफ के फायदे की बात की जाए तो, इसके फायदे अनगिनत होते हैं जो हमें सामान्य बीमारियों के साथ गंभीर बीमारियों से बचाने में भी बेहद कारगर होते हैं। इसलिए आज हम आपको सौंफ खाने के फायदे के बारे में बता रहे हैं। वैसे तो बचपन में अक्सर सभी ने रंग-बिरंगी छोटी गोलियों वाली सौंफ का स्वाद जरूर चखा होगा। इसके अलावा घरों में अचार और होटल या रेस्टोरेंट में खाने के बाद मिलने वाली सौंफ मिश्री को कोई कैसे भूल सकता है।

सौंफ का उपयोग सबसे अधिक पाचन संबंधी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है। इसके एंटीस्पास्मोडिक और कार्मिनेटिव गुण इरिटेबल बाउल सिंड्रोम जैसी पेट की गंभीर समस्याओं से छुटकारा दिलाने में काफी कारगर होते हैं।इसके अतिरिक्त, पेट दर्द, पेट में सूजन और गैस जैसी समस्याओं से छुटकारा दिलाने के साथ ही अल्सर, दस्त और कब्ज आदि से राहत दिलाने में भी सौंफ कारगर साबित हो सकती है। पेट की बीमारियों के लिए यह बहुत प्रभावी दवा है जैसे मरोड़, दर्द और गैस्ट्रिक डिस्ऑर्डर के लिए।

खाने के बाद सौंफ, मिश्री और बादाम को पीसकर खाने से स्मरण शक्ति यानि मैमोरी शॉर्प होती है। अगर आपके बच्चे को चीजें याद रखने में दिक्कत होती है, तो रोजाना 1 छोटा चम्मच सेवन करवाएं।अगर आप इररेगुलर यानि अनियमित पीरियड्स की प्रॉब्लम को फेस कर रही हैं, तो रोजाना सौंफ का सेवन करना फायदेमंद रहेगा।

फाइबर से भरपूर सौंफ बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में भी लाभदायक हो सकती है। यह न सिर्फ वजन कम करने में सहायक होती है, बल्कि शरीर में अतिरिक्त वसा को बनने से भी रोकती है। कोरिया में हुए एक शोध के मुताबिक सौंफ की एक कप चाय पीने से भी बढ़ते वजन को रोका जा सकता है अगर आप आंखों की कम होती रोशनी से परेशान हैं, तो नियमित रूप से सौंफ के साथ मिश्री का सेवन करें।सौंफ की तासीर ठंडी होती है, जिसकी वजह से गर्मियों में सेवन करने से पेट को रोगों में आराम मिलता है। साथ ही खून को साफ करने में भी सौंफ मददगार साबित होती है।

सौंफ का उपयोग आमतौर पर सांसों की ताजगी बनाए रखने के लिए किया जाता है। सौंफ के कुछ दानों को चबाने मात्र से ही आपकी सांसों की दुर्गंध दूर हो जाती है। सौंफ चबाने से मुंह में लार अधिक मात्रा में बनती है, जो बैक्टीरिया को दूर करने में मददगार साबित हो सकती हैं। इसके अतिरिक्त सौंफ के गुण ये भी हैं कि यह मुंह के संक्रमणों से भी बचा सकती है।सौंफ खाना प्रेग्नेंसी में भी बेहद फायदेमंद होता है।लेकिन सीमित मात्रा में, क्योंकि इसके ज्यादा सेवन करने से गर्भाशय में दिक्कत हो सकती है। गर्भवती महिलाओं को हमेशा में दूध में मिलाकर सौंफ का सेवन करना चाहिए। इससे गर्भावास्था में आने वाली मिचली से भी राहत मिलती है।

सौंफ के अनेक गुणों में से एक गुण यह भी है कि यह आपको अच्छी नींद लेने में मदद कर सकती है। सौंफ में मैग्नीशियम पाया जाता है, जिसके बारे में कहा जाता है कि यह अच्छी नींद और नींद के समय को बढ़ा सकता है। साथ ही यह भी कहा जाता है कि मैग्नीशियम अनिद्रा दूर भगाने में भी मददगार होता है

एक शोध के अनुसार सौंफ में पाया जाने वाला तेल मधुमेह रोगियों के लिए काफी लाभदायक साबित हो सकता है। यह खून में शर्करा की मात्र को कम कर मधुमेह के खतरे को भी कम कर सकता है। सौंफ में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण भी कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकते हैं ऐसा कहा जाता है कि सौंफ खाने से स्तनों के आकार में वृद्धि हो सकती है, लेकिन इस संबंध में डॉक्टर की सलाह लेना बेहतर होगा।

सौंफ के गुण में त्वचा का ध्यान रखना भी शामिल है। इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीमाइक्रोबियल और एंटीएलर्जिक गुण त्वचा की सुंदरता बनाए रखने में मददगार साबित हो सकते हैं। मसलन सौंफ की भाप आपके चेहरे के स्किन टैक्सचर को बनाए रख सकती है।इसके लिए एक लीटर उबलते पानी में एक चम्मच सौंफ डाले। उसके बाद तौलिये से अपने सिर को गले तक कवर करके पांच मिनट तक भाप लें। ऐसा सप्ताह में दो बार करने से त्वचा की चमक बढ़ सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *