बच्चों की त्वचा की देखभाल | Skin care for children (Bacho ki skin care)

ये बात तो आप सभी जानते है की बच्चों की त्वचा कितनी मुलायम होती है और सुबह और रात को चलने वाली सर्द हवाओं से बचने के लिए लोग न जाने कौन -कौन से काम कर रहे है। क्युकी ऐसे में स्किन को भी एक खास देखभाल की जरूरत होती है।साथ ही ऐसे में सर्दियों में बच्चों की त्वचा को रूखेपन से बचाने के लिए हमे देखरेख करनी चाहिए।क्युकी इसके साथ ही कई बच्चों को एलर्जी ,दाद और अनेक त्वचा की बीमारियों से सामना करना पड़ता है।

(1) बच्चों की त्वचा की समस्याएं :

आपको बता दूँ की छोटे बच्चों की त्वचा में झुर्रियां, स्किन का लाल होना और ड्राइनेस ये तीनों ही समस्याएं बच्चों के लिए बहुत आम हैं। और यदि छोटे बच्चों की त्वचा में कुछ समस्या दिखें तो मां के गर्भ के बाहर आने के बाद बच्चा और बच्चे की त्वचा नए वातावरण में खुद को एडजेस्ट करने की कोशिश कर रहा होता है।ज्यादातर बच्चों की त्वचा की समस्याएं समय के साथ ठीक हो जाती हैं। और जो बच्चे देर में पैदा होते है उन बच्चों की स्किन पर अक्सर ड्राई और पपड़ी दिखाई देती है। लेकिन वह कुछ ही हफ्तों में बच्चों की स्किन की यह परेशानी कम हो जाती है।

(2) गुनगुना पानी पिलाये :

बड़े हो या छोटे पानी पिने की सलाह तो सबको दी जाती है। और यदि आप अपने बच्चे की त्वचा में नमी बनाए रखना चाहते है और उनकी त्वचा को ठीक रखना चाहते है तो आप उस गुनगुना पानी पिलाएं। इससे उनकी त्वचा में नमी बनी रहगी और साथ ही यह त्वचा को पोषित भी रखेगा।

(3)घर व आसपास का तापमान से परिवर्तन :

आपको जानकर हैरानी होगी की कई बार जिस कमरे में बच्चा ज्यादा रहता है उसका तापमान भी उसकी त्वचा पर असर करता है। जैसे कि वहां हवा का प्रवेश हो और ज्यादा धूप हो या फिर इसके अलावा एयर कंडीशन का इस्तेमाल या हीटर आदि से भी त्वचा रूखी व शुष्क होने की आशंका रहती है।इस लिए हीटर और एयर कंडीशन का उपयोग सिमित सीमा में करे।

(4) बच्चों के बालों की देखरेख :

आपको बता दे की बच्चों की त्वचा के साथ-साथ बच्चों के बालों की देखभाल भी जरूरी है। एक बार जब बच्चा नहाने लगता हैं और अगर उसके बाल हैं, तो उसे हफ्ते में केवल एक या दो बार शैम्पू की जरूरत होती है ।उसके सिर को सावधानी से धोना चाहिए।उसके बाद बेबी क्लीन्जर या बेबी शैम्पू का इस्तेमाल करें। उसकी आंखों में इसे जाने से रोकने के लिए अपने हाथ को उसके माथे पर रखें या उसे थोड़ा पीछे झुकाएं ताकि पानी उसकी पीठ से नीचे चला जाए।इससे बच्चे के बाल ठीक रहते है।