करेले के जूस के सेहत और स्किन के लिए फायदे | karele ke joos ke sehat aur skin ke lie phaayade

हरी सब्जियों के बीच आकर्षित करने वाला करेला, स्वाद में भले ही कड़वा लगता हो, लेकिन इससे होने वाले फायदे जरूर मीठे हैं।एक करेला शरीर को कई लाभ देता है. करेले के सेवन से शरीर को काफी सेहतमंद बनाया जा सकता है. हरी सब्जियों की मदद से शरीर में कई पोषक तत्वों की पूर्ति आसानी से की जा सकती है. करेला भी उन्हीं हरी सब्जियों में से एक है जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है. करेले में भरपूर मात्रा में विटामिन सी, एंटीवायरल गुण पाए जाते हैं. जिनकी मदद से कई बीमारियों से निजात पाई जा सकती है. करेले के सेवन से इम्यून सिस्टम को भी मजबूती प्रदान की जा सकती है.

करेले में फास्फोरस पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। यह कफ, कब्ज और पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करता है। इसके सेवन से भोजन का पाचन ठीक तरह से होता है, और भूख भी खुलकर लगती है।करेले से घुटने के दर्द से भी राहत पाई जा सकती है. इसके लिए करेले को हल्का सा भून लें और इसको कॉटन में बांध लें. इसके बाद इसे घुटने पर लगाएं.

सिरदर्द की समस्या से कई बार लोगों का सामना हो जाता है. लेकिन अगर सिरदर्द काफी समय से लगातार होने लगे तो ऐसे में करेला काफी फायदेमंद साबित होता है. इसके लिए करेले की पत्तियों को पीस लें और फिर इसे माथे पर लगा लें. ऐसा करने से सिरदर्द से आराम मिल जाएगा.

पेट में गैस बनने और अपच होने पर करेले के रस का सेवन करना अच्छा होता है, जिससे लंबे समय के लिए यह बीमारी दूर हो जाती है।करेले का जूस पीने से लीवर मजबूत होता है और लीवर की सभी समस्याएं खत्म हो जाती है। प्रतिदिन इसके सेवन से एक सप्ताह में परिणाम प्राप्त होने लगते हैं। इससे पीलिया में भी लाभ मिलता है।

ह्दय संबंधी समस्याओं के लिए करेला एक बेहतर इलाज है। यह हानिकारक वसा को ह्दय की धमनियों में जमने नहीं देता जिससे रक्तसंचार व्यवस्थित बना रहता है, और हार्ट अटैक की संभावना नहीं होती।नींबू के रस के साथ करेले के रस को चेहरे पर लगाने से मुंहासे ठीक हो जाते हैं और त्वचा रोग नहीं होते।कैंसर से लड़ने के लिए करेले के रस का सेवन बहुत ही लाभकारी सिद्ध होता है।

चोट लग जाने से घाव हो जाते हैं. इनको भरने के लिए करेला काफी उपयोगी साबित होगा. इसके लिए करेले की पत्तियों को घाव पर पीस कर लगाने से घाव ठीक हो जाएगा. इसके लिए करेले की पिसी हुई पत्तियों को हल्का सा गर्म कर लें और फिर घाव पर लगाकर पट्टी बांध लें.उल्टी-दस्त या हैजा हो जाने पर करेले के रस में काला नमक मिलाकर पीने से तुरंत आराम मिलता है। जलोदर की समस्या होने पर भी दो चम्मच करेले का रस पनी में मिलाकर पीने से लाभ होता है।