चाय पीने के फायदे और नुकसान | Chai peene ke fayde aur Nuksan

चाय के बगैर हमारी सुबह नहीं होती है। इसके बिना सुबह सुबह कुछ भी नहीं किया जाता है। तो ये तो चाहिए ही चाहिए। इस बात से वाकिफ होते हुए भी हम इसका प्रयोग करते हैं। हम जानते है कि ये हमारे शरीर को नुकसान करती है लेकिन आज हम आपको इसके फायदे और नुकसान के बारे में बताते हैं लेकिन उसे पहले आपको जानकारी दे दे कि भारत में 75 से 85 प्रतिशत लोग दिन की शुरुवात एक गर्म चाय के कप से करते है और वो खाली पेट चाय पीते हैं जो कि सेहत के लिए बहुत नुकसान दायक होता है।

उस समय लोग चाय कारण वश पीते थे जैसे डायबिटीज नियंत्रण के लिए, सर्दी में कमी करने के लिए, वजन कम करने के लिए और हैंगओवर रोकथाम के लिए इत्याेदि. अब आधुनिक वैज्ञानिक अनुसंधान ने चाय को स्वास्थ्य के लिए लाभकारी भी बता दिया है.

हरी चाय मूत्राशय, स्तन, फेफड़े, पेट, अग्नाशय के लिए एंटीऑक्सीडेंट का काम करती है और कोलोरेक्टल कैंसर के विकास की रोकथाम में फायदा करती है.धमनियों के क्लोग्गिंग रोकने, वसा कम करने में, मस्तिष्क परऑक्सीडेटिव तनाव प्रतिक्रिया को कम करने, अल्जाइमर और पार्किंसंस रोग जैसी मस्तिष्क संबंधी बीमारियों के खतरे को कम करने, स्ट्रोक का खतरा कम करने और कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार में मदद करती है

चाय दिल का दौरा और स्ट्रोक के जोखिम को कम कर सकती है. चाय पीने की वजह से धमनियां चिकनी और कोलेस्ट्रॉल से मुक्त हो जाती हैं. अध्ययन में पाया गया कि चाय पीने वालों की हड्डियां,अधिक उम्र, अधिक वजन, व्यायाम, धूम्रपान और अन्य रिस्क फैक्टरों के बावजूद भी मजबूत है.चाय के पानी से बाल धोने से बाल गिरना बन्द होते हैं। चाय पत्ती उबालकर उसके पानी को छानकर फ्रिज में रख लें। बालों को धोने के बाद इस पानी को बालों में कंडीशनर की तरह लगायें, इससे बालों में चमक बढ़ेगी

चाय रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करती है और शरीर को उर्जा भी देती है।इससे आलस्य दूर हो जाता है क्योंकि इसमें कैफीन होता है जो हमारे नर्वस सिस्टम को उत्तेजित कर देता है जिससे थकावट दूर हो जाती है।

नुकसान

चाय को बनाने का एक तरीका होता है अगर इसको कम पकओं तो भी खराब और ज्यादा पकाओं तो भी खराब बता दे कि इसको ज्यादा देर तक उबालने से उसमें टैनिन नामक रसायन निकलता है जो पेट की समम्या को जन्म देते हैं।चाय पीने से शरीर के पेशाब में यूरिक अम्ल जो कि गठिया, जोड़ों की सूजन बढ़ती है। इसी के साथ शरीर में रक्त की कमी भी आती है।

सुबह उठकर खाली पेट चाय पीने से बाइल जूस की प्रक्रिया अनियमित हो जाती है. जिसके चलते आपको मिचली आ सकती है और घबराहट महसूस हो सकती है.खासतौर पर गर्मियों में. चाय में कुछ मात्रा में कैफीन होती है और साथ ही इसमें एल-थायनिन, थियोफाइलिन भी होता है जो उत्तेजित करने का काम करते हैं.

आमतौर पर लोग दूध वाली चाय पीना पसंद करते हैं. पर कम ही लोगों को पता होगा कि खाली पेट दूध वाली चाय पीने से जल्दी थकान महसूस होती है. साथ ही व्यवहार में भी चिड़चिड़ापन आ जाता है.अगर आप भी उन लोगों में से हैं जिन्हें स्ट्रांग टी पीना अच्छा लगता है तो संभल जाइए. ज्यादा स्ट्रांग चाय पीने वालों को अल्सर होने का खतरा रहता है. इससे पेट की अंदरुनी सतह में जख्म हो जाने की आशंका बढ़ जाती है.

कई लोग एक ही बार ज्यादा चाय बना लेते हैं और उसे बार-बार गर्म करके पीते रहते हैं. बार-बार गर्म करके चाय पीना खतरनाक हो सकता है.