बेलपत्र खाने के फायदे | Belapatr khaane ke phaayade

बेलपत्र का प्रयोग खास तौर से भगवान शिव के पूजन अभिषेक में किया जाता है। लेकिन अगर इसे औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाए तो यह आपकी कई सेहत समस्याओं का बेहतरीन इलाज साबित हो सकता है। छोटे-मोटे दर्द या परेशानी में डॉक्टर को दिखाने से पहले इस फल का दवाइयों की तरह इस्तेमाल में लाया जाता है. बेलपत्र, इसके पत्ते और इसकी जड़ें सभी को इस्तेमाल में लाए जाते हैं. यहां आपको बेलपत्र के जूस के फायदों के बारे में बता रहे हैं. बेलपत्र गर्मियों का फल है और अब इसका सीजन आ चुका है,

शरीर में गर्मी बढ़ने पर या मुंह में गर्मी के कारण यदि छाले हो जाएं, तो बेल की पत्तियों को मुंह में रखकर चबाने से लाभ मिलता है और छाले समाप्त हो जाते हैं।

बुखार होने पर बेल की पत्तियों के काढ़े का सेवन लाभप्रद है। यदि मधुमक्खी, बर्र अथवा ततैया के काटने पर जलन होती है। ऐसी स्थिति में काटे गए स्थान पर बेलपत्र का रस लगाने से राहत मिलती है।हृदय रोगियों के लिए भी बेलपत्र का प्रयोग बेहद फायदेमंद है। बेलपत्र का काढ़ा बनाकर पीने से हृदय मजबूत होता है और हार्ट अटैक का खतरा कम होता है। श्वास रोगियों के लिए भी यह अमृत के समान है। इन पत्तियों का रस पीने से श्वास रोग में काफी लाभ होता है।

जब भी लोगों को तपती धूप और उसके साथ चलने वाली गर्म हवा बीमार कर जाती है, तब बेलपत्र खाया जाता है. या फिर इसका जूस पिया जाता है. इसकी ठंडी तासीर शरीर से गर्मी को निकाल कर फिर से स्वस्थ्य कर देती है. इसके साथ ही जब गर्मी की वजह से नाक से खून निकलता है तब भी इस फल को दवाई के रूप में खिलाया जाता है.

छाले हो जाएं तो खाना खाने में बहुत दिक्कत होती है. इसकी वजह से मसालेदार या चटपटा तो बंद हो ही जाता है, इसी के साथ ठंडा-गर्म भी काफी दर्द देता है. इस परेशानी को खत्म करने के लिए बेलपत्र को रोज़ाना खाएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *