पेट में दर्द होने के कारण और उसके इलाज | (pet me dard hone ke Karan aur uske upay) Causes and treatment of stomach ache

आपको बता दूँ की पेट में दर्द की परेशानी ऐसी होती है जिससे व्यक्ति न तो सुकून से बैठ पाता है और न ही कोई काम कर पाता है। और दर्द को कम करने के लिए कई बार लोग बार-बार दवाई लेते हैं जो हेल्थ के लिए अच्छी नहीं है।

पेट दर्द होने के कारण :-
जैसा की आप जानते है की पेट दर्द (Pet Dard) होने के पीछे बहुत तरह के कारण होते है जैसे- खान-पान और जीवनशैली लेकिन इसके अलावा कुछ विशेष बीमारियों के कारण भी पेट में दर्द होता है।

इन सभी कारणों की वजह से शरीर में उपस्थित वात दोष असंतुलित होकर पाचन क्रिया को कमजोर कर देता है और पेट में सुई या कील चुभोने जैसा दर्द होने लगता है। पेट दर्द मुख्यतः वात दोष के असंतुलित होने की वजह से होता है पर वात दोष शरीर में उपस्थित अन्य दो दोष (पित्त और कफ) को दूषित कर देता है। जिसके कारण पेट में जलन किडनी में दर्द होना, अधिक प्यास लगना, जी मिचलाना, पेट में रुक-रुक कर दर्द होना यह सब पित्त व कफ दोष के असंतुलित होने की वजह से होता है।

अदरक में एंटीऑक्सिडेंट गुण पाए जाते हैं, जो पाचन प्रक्रिया को नियंत्रित करने का काम करते हैं और साथ ही पेट में मौजूद अम्ल को भी ये कम रखते हैं। इसके लिए अदरक को पहले बारीक काट लें, फिर उसे पानी में डालकर 3-4 मिनट तक उबालें और उसे छान लें। फिर उसमें थोड़ा शहद मिला दें और थोड़ा-थोड़ा करके दिन में कम से कम 2-3 बार पिएं। इससे पेट दर्द में भी राहत मिलती है और साथ ही साथ पाचन क्रिया भी सुधरती है। 

अदरक
अदरक खराब पेट और अपच के लिए एक सामान्य प्राकृतिक उपचार है। अदरक पेट में मौजूद एसिड को कम रखता है। इसके एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण से पाचन प्रक्रिया सही रहती है।

सौफ
आपको बता दे की अपच के कारण हुए पेट दर्द से जल्दी राहत देने में सौंफ काम आ सकती है। गैस, सूजन आदि लक्षणों से भी राहत देने में मदद करती है।आप पेट दर्द में सौंफ का भी उपयोग कर सकते है।

हींग
पेट में दर्द, गैस या अपच के लिए हींग असरदार है। इसमें मौजूद एंटीस्स्मोडिक और एंटिफलाटुलेंट गुण यह काम करने में मदद करते हैं।

पुदीना
आपको बता दूँ की गैस के कारण होने वाले पेट दर्द को कम करने में मदद करता है। पाचन प्रक्रिया को बेहतर बनाता है।

दही
आपको जानकर हैरानी होगी की दही में गुड बैक्टीरिया पाए जाते है जो आपके पाचन को सुधारते हैं और अपच में होने वाली तकलीफ को कम करते हैं।

गर्म बोतल
पेट की मांसपेशियों को तब आराम मिलता है जब पेट को गर्म पानी की बोतल से सेंकते हैं। इससे ऐंठन शांत होती है।

यदि आपको पेट दर्द हो तो आप ये सभी तरीके अपना सकते है।

नींबू का कट्टा-मीठा अचार | Lemon Cutta-Sweet Pickle (Nimbo ka katta-mitha achar)

आज हम आप लोगो के लिए नींबू के अचार के कुछ अनोखे फायदे और इसको बनाने के आसान तरीके लेके आये है। नींबू का अचार कई तरह से बनाया जाता है आज हम नींबू का खट्टा मीठा अचार बना रहे हैं नींबू के पारम्परिक अचार की तरह इस अचार की शैल्फ लाइफ भी अधिक है

नींबू का आचार बनाने के लिए जरुरी सामग्री :-
नींबू – 12 (500 ग्राम)
नमक – 3 टेबल स्पून (60 ग्राम)
गुड़ या चीनी – 600 ग्राम
लाल मिर्च – ½ छोटी चम्मच
इलायची – 5
गरम मसाला – 1 छोटी चम्मच
काला नमक – 2 छोटी चम्मच
अदरक पाउडर – 1 छोटी चम्मच

सबसे पहले आप नीम्बू को धोकर दो घण्टे धुप में सूखा कर साफ करके टुकड़ो में काट लें।

उसके बाद आप सभी सूखे मसाले एक साथ तैयार करें। और अजवाइन को साफ कर लें।

अब एक बड़े बर्तन में कटे नींबू और सभी सूखे मसाले डाले।और अच्छे से मिक्स करें।उसके बाद किसी जार या मर्तबान में डाल दें।

25 -30 दिन धूप में रखें।और याद रहे चीनी 20 दिन के बाद डालनी है।और बीच-बीच में जार को हिलाते रहे।आपका खट्टा मीठा नींबू का आचार तैयार है।

अब जब भी आपका मन करे अचार निकाल कर खाएं।

सुझाव:

जिसमें अचार भर कर रखेंगे उसे उबलते पानी से धो लीजिये, और धूप में सुखा लीजिए. कन्टेनर को ओवन में भी सुखाया जा सकता है.
अचार जब भी खाने के लिये निकालें, हमेशा साफ और सूखी चम्मच का प्रयोग कीजिये

दम आलू की सब्जी कैसे बनाये | How to make Dum Potato Vegetable (dam aalu ki sabji kaise banaye)

आप में से बहुत लोगो को दम आलू की सब्जी बहुत अच्छी लगती है और खाने में भी बहुत अच्छा स्वाद आता है। आज में आप लोगो को दम आलू की सब्जी बनाने के तरीके बताने जा रहा हूँ | आलू की सब्जी का अपना ही अलग स्वाद होता है। और इसमें डीप फ्राई किए आलू को आप इलायची, मसाला पेस्ट और दही में डालकर बनाया जाता है।अचानक घर आए मेहमानों को भी आप इस स्वादिष्ट सब्जी को बनाकर खिला सकते हैं।

आपको बता दे की दम आलू की सब्जी को आप खास मौकों पर बना सकते हैं। इसमें आलू को फ्राई करके गाढ़ी मसालेदार ग्रेवी के रूप में तैयार किया जाता है। दम आलू की ग्रेवी को क्रीमी फलेवर देने के लिए इसमें कुछ लोग काजू का पेस्ट भी डालते हैं जिससे इसका स्वाद दोगुना बढ़ जाता है।

आप इसको तंदूरी रोटी और लच्छा परांठे के साथ भी सर्व कर सकते हैं। इतना ही नहीं सर्व करते वक्त आप हरे धनिए से गार्निश करें और थोड़ी क्रीम भी डाल सकते हैं।

(i) सबसे पहले आप आलू के पीस को आधा करके काट लें। तेल में डीप फ्राई करके साइड रख दें।

(ii) उसके बाद कांटे या टूथपिक से आलू में छेद कर लें। और साइड रख दें।

(iii) अब एक कटोरी में सभी सूखे पाउडर मसाले डालें। पानी डालकर पेस्ट तैयार कर लें।

(iv) उसके बाद एक पैन में तेल गर्म करके इलायची डालें।

(v) इलायची डालने बाद आप इसमें पेस्ट डालकर चार से पांच मिनट के लिए चलाएं। इसके बाद इसमें आलू मिलाएं। और साथ ही दही डालें।

(vi) अब इसको पांच मिनट के लिए ढक कर पकाएं।

इस प्रकार आपकी दम आलू की सब्जी तैयार है अब आप इससे रोटी या फिर चावल के साथ गर्मा-गर्म सर्व करें।

सर्दी के गोंद के लड्डू कैसे बनाये / How to make cold gum laddus(sardi me gond)

यह बात तो आप सभी जानते है की सर्दी के दिनों में गर्म चीजों का सेवन करना चाहिए आज में आपको सर्दी में बनने वाले लडडू के बारे में बताते है की किस प्रकार सर्दी के लड्डू बनाने के लिए क्या -क्या सामग्री चाहिये होती है।

सामग्री
(i) 1/2 किलोग्राम गेहूं का आटा (अट्टा)
(ii)1/2 किलोग्राम घी
(iii) 50 ग्राम चीनी या बुरा
(iv) 50 ग्राम बादाम (बादाम)
(v) 50 ग्राम काजू
(vi) 25 ग्राम पिस्ते
(vii) 25 ग्राम फूल मखाना
(viii) 50 ग्राम चिरोंजी
(ix) 50 ग्राम खरबूजे की मींगी
(x) 25 ग्राम खाने वाला गौंद

तरीका:-

सबसे पहले कच्चे गौंद को बारीक पीस कर साइड में रख ले।

खरबूजे की मींगी को बिना तेल या घी के कढ़ाई में भुने

पुरे मखाने को बारीक़ बारीक़ तोड़ कर रख ले

अब काजू बादाम पिस्ते को मिक्सी में मोटा पीस ले

एक कढ़ाई में थोड़ा सा घी डाल कर पिस्से हुए गौंद को सुनहरा होने तक फ्राई करें
अब गौंद को कढ़ाई से बहार निकाले और थोड़ा सा और घी डाल कर पुरे मखानो को फ्राई करें

अब पुरे मखाना को कढ़ाई से बहार निकाले और बचा हुआ सारा घी कढ़ाई में डाले और उसी में आटा मिलाए आटे को सुनहरा होने तक सेके जब तक उसकी खुशबू न आये ध्यान रहे

आटे को धीमी आंच पर सेके

आटे को अच्छी तरह से ठंडा होने दे

ठन्डे आटे में सभी मेवा मिला ले

अब इसमें चीनी मिलाए
अपनी मर्ज़ी के आकार के अनुसार इस के लड्डू बना ले

इस प्रकार आप गोंद के लड्डू बना सकते है।